सोमवार, 7 फ़रवरी 2011

ठ उनके चेहरे का...!!!
चेहरे से उनके झूठ का नकाब उतर गया ,
पर वो हसीं ख्वाब पल में बिखर गया

उनके लिये शायद ,ये मजाक था ,
मेरी जिंदगी में ,नासूर कर गया

कैसे हो जाते हैं ,इनके दिल पत्थर के ,
मै सपने में सोच कर ,इकदम सिहर गया

जानिबे मंजिल तो हमारी बहुत दूर थी ,
साथ चलते-चलते जाने वो किधर गया

'कमलेश' वादे तो बहुत थे उनके जीने की राह में ,
पर जीते-जीते ही ,वो ख्वाब मर गया

3 टिप्‍पणियां:

Learn By Watch ने कहा…

आपको जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं

कविता रावत ने कहा…

sundar prastuti.. aapko janamdin aur vasant panchmi kee haardik shubhkamnayen

शिवकुमार ( शिवा) ने कहा…

बहुत ही सुंदर प्रस्तुति...
shiva12877.blogspot.com